मुख पृष्ठ / Home       |       कविताएं / Poems        |        संपर्क / Contact

भारतीयता के आधुनिक अनुभव

जब भारत के इक बन्दे ने
फेंका भाला दूर गगन में
गिरा धरा पर सबसे आगे
लहरा गया तिरंगा मन में

आया पानी खेत नहर में
छाई बहार चमन चमन में
आई उन्नति गांव शहर में
लहरा गया तिरंगा मन में

पयस की प्यास मिटाने चले
थन से नदियां बहीं वतन में
आज पाल पशु परिवार फलें
लहरा गया तिरंगा मन में

राजस्थान की रेत उछली
उछला चरम गर्व जन जन में
शांतिप्रियता की विजय हुई
लहरा गया तिरंगा मन में

जो बैठक में मतभेद हुआ
गहन मनन इक दिखा कथन में
जटिल समस्या गई सुलझती
लहरा गया तिरंगा मन में

मंगल पहली पहल पधारा
बिजली दौड़ गयी तन तन में
अचंभित रह गया जग सारा
लहरा गया तिरंगा मन में

- कालपाठी



साधन / Resources             © kaalpathi.karmyogi.com